छात्र संगठनों की बंदी की तैयारी पूरी, चला सघन जनसंपर्क अभियान एवं प्रचार अभियान

गिरफ्तारी एवं झूठे मुकदमे में फंसाने से बाज आए सरकार

पटना,18.12.2019:-
11 छात्र संगठनों की बिहार बंदी की तैयारी के क्रम में अंतिम दिन सघन जनसंपर्क एवं प्रचार अभियान चला। आज पटना विश्वविद्यालय के दरभंगा हाउस, वाणिज्य कॉलेज, पटना कॉलेज, साइन्स कॉलेज,पटना लॉ कॉलेज में चला। वहीं प्रचार गाड़ी द्वारा भिखना पहाड़ी,एनआईटी मोड़, महेंद्रू, सुल्तानगंज, आलमगंज, गायघाट, शाहगंज, मुसल्लहपुर,बाजार समिति, दिनकर गोलंबर, लंगरटोली, सब्जीबाग चौराहा पर *नुक्कड़ सभा के माध्यम से नागरिक संशोधन कानून एवं एनआरसी के खिलाफ जोरदार विरोध करते हुए बिहार बंद को असरदार बनाने की अपील की गई*।जबकि एक अन्य टीम ने अशोक राजपथ, कुनकुन सिंह लेन, रमना रोड, खजांची रोड, मखनिया कुआं के दुकानदारों एवं पटना यूनिवर्सिटी के छात्रावासों में विद्यार्थियों से बिहार बंद को सफल बनाने की अपील की गई।
11 छात्र संगठनों के नेताओं ने संयुक्त रूप से छात्र नेताओं को झूठे मुकदमे में फंसाने की निंदा की। आज आंदोलनकारी भीम आर्मी के नेता अमर आज़ाद को गिरफ्तार करने पर भी सभी संगठन के नेताओं ने रोष जताया।हालांकि छात्रों के दबाव में उन्हें बाद में छोड़ दिया गया।
एआईएसएफ के राष्ट्रीय सचिव सुशील कुमार, आइसा के राज्य अध्यक्ष मोख्तार,जन अधिकार छात्र परिषद के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष राहुल रुद्र, द ग्रेट भीम आर्मी के गौतम कुमार,एसएफआई के पंकज वर्मा, छात्र वीआईपी के प्रदेश अध्यक्ष विकास बाक्सर, छात्र रालोसपा के सौरभ पटेल,एनएसयूआई के खालिद,एआईडीएसओ के निकोलाई शर्मा,पीडीएसएफ के राधेश्याम, दिशा की वारुणी ने संयुक्त रूप से कहा कि *ना तो झूठे मुकदमे में डालने से,ना गिरफ्तारी से और ना हीं जेल भेजे जाने से वे डरने वाले हैं। सरकार को इन गीदड़ भभकियों से बाज आना चाहिए। जामिया-एएमयू-जेएनयू-मद्रास यूनिवर्सिटी एवं पूर्वोत्तर के राज्यों सीएए-एनआरसी के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन कर बहादुर छात्र-छात्रा साथियो ने साबित कर दिया है कि वे सरकार से नहीं डरते और हर हालत में इसके खिलाफ अपनी आवाज़ बुलंद करेंगे।* रामप्रसाद बिस्मिल, अशफाक उल्ला खान और रौशन सिंह के शहादत दिवस के दिन साझी शहादत और साझी विरासत दिवस को याद करते थे बिहार बंद को सफल बनायें।
इस अभियान में रंजीत पंडित,सैय्यद आमिर अब्बास,विकास कुमार, अभिमन्यु कुमार, रामजी यादव, धनंजय कुमार,तौसीक आलम, वारुणी, रिजवान,अक्षय कुमार, रेयाज,हेमंत कुमार,मुश्ताक राहत सहित दर्जनों छात्र शामिल थे।

सुशील कुमार

Author: Anupam Uphar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

41 + = 47