Category: देश-दुनिया

राउंड टेबल इंडिया (आरटीआई) द्वारा भूख से आजादी कार्यक्रम के तहत 20 शहरों में रॉबिनहुड आर्मी के साथ मूलभूत सुविधाओं सेवंचित 70000 बच्चों को लंच पैकेट बांटे

16 अगस्त 2017:
भारत में हर चौथा व्यक्ति भूखा सोता है और हर साल 30 हजार करोड़ का रुपए का खाना बर्बाद हो जाता है। बर्बाद होने वाला ज्यादातर खाना रेस्टोरेंट सेहोता है। रॉबिनहुड आर्मी ने मिशन 700 की परियोजना के तहत भारत की आजादी के 70 साल होने पर स्वतंत्रता दिवस पर राउंड टेबल इंडिया (आरटीआई) द्वारा भूख से आजादी कार्यक्रम के तहत 20 शहरों में रॉबिनहुड आर्मी के साथ मूलभूत सुविधाओं सेवंचित 70000 बच्चों को लंच पैकेट बांटे राउंड टेबल इंडिया के अध्यक्ष क्रिस्टोफर अराविंथ ने कहा, राउंड टेबल इंडिया ने ग्रामीण, अर्धग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के स्लम्स के 2172 स्कूलों में करीब 179.19 करोड़ रुपये की लागत से 5377 क्लासरूम बनवाए हैं, जिससे मूलभूत सुविधाओं से वंचित 50 लाख 92 हजार बच्चों को फायदा होगा। आरटीआई जीरो ओवरहेड आर्गनाइजेशन होने के रूप में खुद पर गर्व करता है। वह यह सुनिश्चित करता है कि दान में दिया गया हर रुपया फ्रीडम टु एजुकेशन प्रॉजेक्ट में इस्तेमाल हो, जबकि संगठन की प्रशासनिक खर्चे सदस्यों की इंटरनल फंडिंग से पूरे होते हैं। इससे आरटीआई अन्य सेवा संगठनों से ज्यादा विशिष्ट रूप से अपनी जगह बनाता है। यह अपने शेयरधारकों को 100 फीसदी मूल्य या मान देता है। आरटीआई की ओर से किसी डोनर से लिया एक भी रुपया को इस तरह इस्तेमाल में लाया जाता है, जिससे रुपये का ज्यादा से ज्यादा मूल्य मिल सके और उसका प्रभाव ज्यादा से ज्यादा हो।
राउंड टेबल इंडिया के अलावा संगठन के सदस्य भूकंप, बाढ़, संक्रामक रोग और अन्य प्राकृतिक आपदाओं से प्रभावित लोगों को सहायता करते हैं।

श्रावणी मेला के अवसर पर डी0एम0 मुजफ्फरपुर द्वारा रूट-चार्ट जारी

पटना, 07 जुलाई 2017:- जिलाधिकारी, मुजफ्फरपुर से प्राप्त सूचनानुसार मुजफ्फरपुर शहरी क्षेत्र में रामदयालु नगर-आर0डी0एस0 काॅलेज-अघोरिया बाजार चैराहा-आमगोला पुल-हरिसभा चैक, छोटी कल्याणी चैक, प्रभात सिनेमा चैक होते हुए मखन साह चैक के रास्ते गरीबनाथ मंदिर जाने का काँवरिया पथ निर्धारित की गई हैं एवं गांधी चैक से टावर होते हुए काँवरिया के निकासी का मार्ग रहेगा। जिस पर श्रावण माह के प्रत्येक शानिवार के प्रातः 06.00 बजे से सोमवार के रात्रि 10.00 बजे तक सभी प्रकार के वाहनों का प्रवेष प्रतिबंधित रहेगा।
यातायात नियंत्रण के दृष्टिकोण से शहर में प्रवेष करने वाले मार्ग में भगवानपुर चैक, गोबरसही चैक, कच्ची पक्की चैक, सरैयागंज टावर चैक, भिखनापुरा मोड़ अखाड़ाघाट पुल, बैरिया चैक के पास ड्राॅप गेट की व्यवस्था की गई है एवं साथ ही काँवरिया मार्ग में अघोरिया बाजार चैक, हरिसभा चैक, छोटी कल्याणी चैक पर भी ड्राॅप गेट का प्रबंध है। श्रावण माह के प्रत्येक शनिवार को पूर्वाह्न 06.00 बजे से सोमवार के अपराह्न 06.00 बजे तक भारी वाहनों के प्रवेष शहर में प्रतिबंधित रहेगा।
काँवरियागण से संबंधित वाहन के पार्किग की व्यवस्था रामदयालु सिंह महाविद्यालय के प्रांगण में एवं इमलीचट्टी स्थित सरकारी बस पड़ाव में की गई है।
मुजफ्फरपुर की ओर से पटना आने-जाने वाली सभी प्रकार के वाहन प्रत्येक शनिवार के पूर्वाह्न 06.00 बजे से सोमवार के अपराह्न 06.00 बजे तक भगवानपुर चैक से सरैया के रास्ते लालगंज होते हुये हाजीपुर-पटना के लिए परिचालित होगा। इसी प्रकार मुजफ्फरपुर से पटना एवं बरौनी की ओर जाने वाले वाहन एन0एच0 28 से काजीइण्डा-महुआ-हाजीपुर के रास्ते से परिचालित होगा।

देशप्रेम अभियान में हमसफ़र बने सुंदर जीवन की ओर सहयोग विकसित हेतु आएं दोस्त बनाए

देशप्रेम अभियान में हमसफ़र बने सुंदर जीवन की ओर सहयोग विकसित हेतु आएं दोस्त बनाए। खुश शांत आजाद होने संडेसभा आयोजित किया गया। कृपा कीजिये में जात-पात भेद-भाव से ऊपर उठ में भारत बन जाऊ। धरती समाज देश ने मुझे बनाया।मै इनको बनाऊ।आज हमारी धरती बुखार से तप रही है,समाज अज्ञान-अहंकार-आलस्य से पीड़ित है।देश बन नहीं पा रहा इसके उलट साम्य-समाज-पूंजीवादी विकृत राष्ट्र बन कर लूट-भाग-तंत्र आयोजित करता है।गैर-बराबरी अन्याय शासन-शोषण से सब कोई परेशान हैरान।काम ढूढ़ने पर सेल्समैनी दलाली नौकरी करने को कहा जाता है।हमारे अंदर के कला उधोग उद्यम को दबाया जा रहा है। हमारे सपनो को तोडा जाता है। इस दुर्गति से हमे देशप्रेम और बहार निकाल रहा है। उसी को जगाने और अभ्यास करने हम लोग 2008 से लगातार संडेसभा आयोजित करते और भाग लेते है। मन से बीमार हतोसाहित हज़ारो लोगो ने भाग ले इसका लाभ लिया। ये हमारे लिए गर्व की बात है।यही वजह है हमने ( नितेश सोनू नवल पुष्कर ज्योति कुंदन और ब्रजेश जितेंद्र विजय गणेश जोगेंद्र कुणाल मनोज निरंजन संतोष विवेक विनयबिहारी भुनेश्वर ब्रिजकिशोर विकास बाबुल राकेश रविशेखर संजीव ) इस कार्यक्रम के लिए जीवन समर्पित कर आज 6 वर्षो से जन-जन तक इसका संदेश पहुंचाने का काम करते है।हमें विश्वास है की आप हमारे समर्पण और आत्मविश्वास का हौसलाअफजाई करने हम पर प्रयोग करने आ देशप्रेम अभियान में हमसफ़र बनेगे।
कुमार राजीव वैज्ञानिक ने कहा देशप्रेम हमारा जन्म अपने लिए नहीं बल्कि दुसरो के लिए हुआ है। ठीक उसी तरह जैसे हम अपने आँखों से खुद को नहीं देख पाते। पर दुसरो को बिलकुल ठीक-ठीक देख लेते। उसी तरह हम अपना सपना पूरा नहीं कर सकते पर दुसरो का आसानी से करते है।जब एक दूसरे के उदेश्य के लिए काम करते है ऐसी स्थिति को देशप्रेम कहते है।ये हम सब में छुपी है जिसको जगाने और प्रयोग में लाने की जरूरत है। विज्ञान प्रयोग करने प्रमाण करने और अनुभव करने को कहते है।भारत राष्ट्र को देश बनाना है तो सहयोग यानी (केयरिंग & शेयरिंग ) विकसित करना होगा।इसके लिए समान शिक्षा चिकित्सा यातायात आवास ईज्जत नीति लागू हो।

मुख्यमंत्री ने महाशिवरात्रि पर्व के अवसर पर बधाई एवं शुभकामनायें दी

पटना, 23 फरवरी:- मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने महाशिवरात्रि पर्व की पूर्व संध्या पर प्रदेश एवं देशवासियों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनायें दी है।
मुख्यमंत्री ने कहा है कि महाशिवरात्रि पर्व में लोग पूरे उत्साह एवं श्रद्धा के साथ भगवान शिव की उपासना करते हैं। इस पर्व की अपनी अलग महत्ता एवं विशेषता है। यह पर्व हमारी संस्कृति को और मजबूत बनाता है।
मुख्यमंत्री ने लोगों का आह्वान किया है कि वे आपसी प्रेम, पारस्परिक सौहार्द्र एवं सामाजिक सद्भाव के साथ महाशिवरात्रि का पर्व मनायें। उन्होंने आशा व्यक्त की है कि यह पर्व समस्त प्रदेशवासियों के लिए सुख, शान्ति, समृद्धि लेकर आयेगा।

राज्यपाल ने षिवचन्द्र सिंह द्वारा संपादित पुस्तक ‘साहित्येतिहास में वृद्ध विमर्ष’ को लोकार्पित किया

पटना, 16 फरवरी 2017
‘‘आज स्वास्थ्य-सेवाओं में विकास के कारण, जनसंख्या में वृद्धों का अनुपात धीरे-धीरे बढ़ रहा है। किन्तु, जिन्दगी की भाग-दौड़ और संयुक्त परिवार की कमजोर पड़ती अवधारणा के फलस्वरूप, युवाओं में बुजुर्गों के प्रति उदासीनता की प्रवृति पनप रही है और सेवा-भाव में चिंताजनक ढंग से कमी आई है।’’ -उक्त विचार, महामहिम राज्यपाल श्री राम नाथ कोविन्द ने राजभवन सभागार मंे ‘साहित्येतिहास में वृद्ध विमर्ष’ नामक पुस्तक को लोकार्पित करते हुए व्यक्त किये।
राज्यपाल ने कहा कि हमारे देश में युवाओं की आबादी आज 70 प्रतिशत के लगभग है। ये युवा ही भारत के भाग्य-विधाता हैं। हमारे युवा ही कल बुजुर्गों की जमात में शामिल होंगे। आज आवश्यक है कि युवा दम्पति, अपने बच्चांे के साथ आवष्यक वक्त देने का प्रयास करें, साथ ही अपने बुजुर्ग माता-पिता को भी अपने परिवार का अभिन्न अंग समझें।
श्री कोविन्द ने कहा कि समाज रीति-रिवाजों, परम्पराओं और कुछ रिश्तों के बल पर खड़ा होता है। परिवार की संरचना में परिवर्तन तथा कुछ युगीन परिस्थितियों के कारण, कल तक भारतीय समाज-व्यवस्था में मुखिया रहे वृद्धजन उपेक्षित हो रहे हैं। लोकार्पित पुस्तक में इसपर गहन चिंतन हुआ है। यह पुस्तक वृद्धों के अंदर सकारात्मक ऊर्जा पैदा करेगी, युवाओं एवं प्रौढ़ों को भविष्य के प्रति आगाह करेगी तथा श्रद्धा और स्नेह आधारित, स्वस्थ एवं समरस समाज की स्थापना में सहायक बनेगी।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राज्य हिन्दी प्रगति समिति के अध्यक्ष एवं बिहार गीत के रचयिता श्री सत्यनारायण ने कहा कि वीर कुँवर सिंह, महात्मा गाँधी, सीमान्त गाँधी, लोकनायक जय प्रकाष नारायण -इन सबों ने अपनी वृद्धावस्था में ही देष और समाज के नव-निर्माण में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभायी। उन्होंने कहा कि वृद्ध अनुभव-समृद्ध होते हैं। कार्यक्रम में बोलते हुए डाॅ॰ ए॰ए॰ हई ने कहा कि पाष्चात्य देषों में वृद्धों का समादर नही होता, जबकि भारतीय संस्कृति हमें बुजुर्गों के प्रति श्रद्धा-भाव रखने की षिक्षा देती है। कार्यक्रम में पुस्तक के सम्पादक डाॅ॰ षिवचन्द्र सिंह ने भी अपने विचार व्यक्त किये। स्वागत-भाषण मगध विष्वविद्यालय के कुलपति प्रो॰ कुसुम कुमारी ने किया, जबकि धन्यवाद-ज्ञापन साहित्यकार डाॅ॰ षिवनारायण ने किया।

गुजरात गैंगरेप पर भी बोलें भाजपा नेता: भारती

बिहार काँग्रेस उपाध्यक्ष एवं विधान पार्षद श्री रामचन्द्र भारती ने दो दिनों पूर्व प्रकाष मंे आये गुजरात के गैंगरेप प्रकरण पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है कि विषेष रूप से बिहार के भाजपा नेताओं को इस प्रकरण में भी ईमानदारी से बोलना चाहिए। उन्होंने कहा कि पीड़िता ने जिन नौ लोगो को अभियुक्त बनाया वो सभी गुजरात भाजपा के नेता थे जिनमे से पांच को पार्टी ने निलंबित भी कर दिया।
श्री भारती ने कहा कि बिहार में जो भाजपा नेता चींख-चींख कर कानून व्यवस्था बिगड़ जाने और जंगल राज कायम होने का अरोप नीतीष सरकार पर लगा रहें हैं, उन्हें गुजरात कि इस घटना के बाद वहां की कानून व्यवस्था पर भी बोलना चाहिए। उन्होनें कहा कि दुख की बात यह है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के राज्य में उनके पार्टी के कार्यकŸाा ही जघन्य अपराध को अंजाम दे रहें हैं। उन्होनें कहा कि भाजपा लीडरों को बिहार सरकार पर कु-व्यवस्था पर प्रष्न उठाने से पूर्व अपने गिरेबान में भी झाक कर देखना चाहिए।

थल सेना अध्यक्ष आज पटना में

राजकोट टेस्‍ट : बमुश्किल हार से बची टीम इंडिया

नई दिल्‍ली: राजकोट टेस्‍ट एक तरह से टीम इंडिया के लिए ‘वार्निग अलार्म’ था. भरपूर (अति?) आत्‍मविश्‍वास के साथ इंग्‍लैंड के खिलाफ सीरीज में उतरी टीम इंडिया को पहला टेस्‍ट ड्रॉ होने के बाद अपनी रणनीति पर नए सिरे से विचार करना पड़ सकता है. पांचवें दिन खेल की समाप्ति पर टीम इंडिया का स्‍कोर 172/6 रहा, जबकि जीत के लिए इंग्‍लैंड टीम ने 310 रन का मुश्किल सा लक्ष्‍य रखा था. 132 के स्‍कोर पर छह विकेट गिरने के बाद जब हार भारतीय खेमे के करीब आने लगी थी, तब कप्‍तान विराट कोहली (नाबाद 49) और लोकल हीरो रवींद्र जडेजा (नाबाद 32) संकटमोचक बने और खेल समाप्‍त होने के लिए बचे 10 ओवर का समय बिना किसी खतरे के निकाल दिया. इन दोनों ने सातवें विकेट के लिए 40 रन की नाबाद साझेदारी की.

राजकोट टेस्‍ट ड्रॉ भले ही रहा हो, लेकिन यह मेहमान इंग्लिश टीम के लिए भरपूर आत्‍मविश्‍वास दे गया. दूसरी ओर राजकोट टेस्‍ट से सीख लेते हुए टीम इंडिया को कुछ खास तैयारी करनी होगी. भारत और इंग्‍लैंड के बीच सीरीज का यह पहला टेस्‍ट टीम इंडिया के लिए चार कड़े सबक देकर गया है…

1. बल्‍लेबाजों को समर्पण भाव से खेलना होगा
मैच में वैसे तो भारत की ओर से चेतेश्‍वर पुजारा और मुरली विजय ने शतक लगाए, लेकिन समग्र रूप से देखें तो भारतीय बल्‍लेबाजों में समर्पण भाव की कमी दिखाई दी. पुजारा-विजय, अश्विन और विराट कोहली ही ऐसे बल्‍लेबाज रहे, जिन्‍होंने विकेट पर रुककर इंग्‍लैंड के गेंदबाजों के आगे रुकने की जेहमत उठाई. दूसरे बल्‍लेबाजों ने या तो विकेट पर निगाह जमने के पहले ही आक्रामक शॉट खेलने की कोशिश की या फिर सेट होने के बाद लापरवाही दिखाते हुए विकेट गंवाया. दूसरी पारी में इंग्‍लैंड की बल्‍लेबाजी तक पांचवें दिन के लिहाज से पिच ठीकठाक व्‍यवहार कर रही थी, लेकिन भारत की बल्‍लेबाजी आते ही यह लगभग ‘अनप्‍लेवल’ लगने लगी.

भारतीय बल्‍लेबाजों की अप्रोच में कुछ कमी दिखी. दूसरी पारी में जब मुश्किल वक्‍त पर विकेट पर रुकने की जरूरत थी तब अश्विन ने आक्रामक तेवर अपनाने की कोशिश में विकेट गंवाया. सबसे निराश अजिंक्‍य रहाणे ने किया जो पहली पारी में 13 और दूसरी में एक रन बनाकर आउट हुए. बल्‍लेबाजों को अति आत्‍मविश्‍वासी होने से बचना होगा. इंग्‍लैंड के स्पिन तिकड़ी के खिलाफ खेलने की इच्‍छाशक्ति उन्‍हें दिखानी होगी.

2. पांच गेंदबाज खिलाने का जोखिम अब शायद ही उठाए टीम
राजकोट में टीम इंडिया पांच गेंदबाजों उमेश यादव, मो.शमी, अमित मिश्रा, आर.अश्विन और रवींद्र जडेजा के साथ उतरी. मैच के पहले टीम इंडिया में इसी बात पर मंथन चल रहा था कि सातवें क्रम पर नवोदित करुण नायर को खिलाया जाए या हार्दिक पांड्या/अमित मिश्रा को. आखिर में फैसला अमित मिश्रा के पक्ष में हुआ, लेकिन इंग्‍लैंड के गेंदबाजों ने भारतीय बल्‍लेबाजी में जिस तरह से सेंध लगाई है, उसके मद्देनजर लगता यही है कि टीम इंडिया आगे पांच खालिस गेंदबाजों के साथ उतरने का साहस नहीं करे. एक तरह से यह इंग्‍लैंड टीम की मनोवैज्ञानिक जीत ही मानी जाएगी, क्‍योंकि चार गेंदबाजों के साथ उतरने का मतलब होगा रक्षात्‍मक होना.

3. अगर अश्विन नहीं चलें, तो प्‍लान ‘बी’ क्‍या
न्‍यूजीलैंड के खिलाफ टेस्‍ट सीरीज में टीम इंडिया का गेंदबाजी में प्रदर्शन आर.अश्विन के इर्दगिर्द ही केंद्रित रहा. दूसरे गेंदबाज उनके सहायक के रोल में रहे, लेकिन इंग्‍लैंड के खिलाफ पहले टेस्‍ट की बात करें तो तमिलनाडु का यह ऑफ स्पिनर खतरा बनता नजर नहीं आया. उन्‍हें पहली पारी में दो और दूसरी पारी में एक विकेट मिला. ऐसे में प्रश्‍न उठना लाजिमी है कि अगर आगे भी अश्विन अपेक्षानुरूप प्रदर्शन नहीं कर पाए, तो इंग्‍लैंड के खिलाफ विकेट कौन-सा गेंदबाज निकालकर देगा. टीम को इस दिशा में भी गहन मंथन करना होगा.

4. कुक और रूट के खिलाफ क्‍या हो रणनीति
इंग्‍लैंड की पहली पारी में जो रूट और दूसरी पारी में कप्‍तान एलिस्टर कुक ने शतक जमाकर भारत के लिए खतरे की घंटी बजा दी है. वैसे तो पहली पारी में मोईन अली और बेन स्‍टोक्‍स ने भी शतक बनाए, लेकिन कुक और रूट ही इंग्लिश बल्‍लेबाजी की ‘रूट’ साबित होने वाले हैं. कुक इससे पहले 2012-13 में हुई सीरीज में भी भारतीय गेंदबाजों के सब्र की परीक्षा ले चुके हैं. उस समय चार टेस्‍ट की सीरीज में उन्‍होंने 80.28 के औसत से सर्वाधिक 562 रन बनाए थे, जिसमें तीन शतक शामिल थे.

राजकोट टेस्‍ट में तो ऐसा लगा ही नहीं कि भारतीय गेंदबाज, इंग्‍लैंड के इन दोनों बल्‍लेबाजों के खिलाफ कोई रणनीति बनाकर उतरे. आगे के मैचों में इन दोनों बल्‍लेबाजों को आउट करने के लिए अच्‍छी तैयारी की जरूरत होगी. यह भी याद रखना होगा कि आगे के मैचों में इंग्‍लैंड के प्रमुख तेज गेंदबाज जेम्‍स एंडरसन टीम में वापसी कर सकते हैं. जाहिर है टीम इंडिया के लिए यह ‘जागने’ का वक्‍त है…

बिहार में कृषि एवं उद्योग की अपार संभावनायें हैं:- मुख्यमंत्री

पटना, 31 अक्टूबर 2016:- मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने आज मुख्यमंत्री सचिवालय संवाद में आयोजित उद्यमी पंचायत की अध्यक्षता करते हुये कहा कि बिहार औद्योगिक निवेष प्रोत्साहन नीति 2016 के अधिसूचित होने के उपरान्त यह प्रथम उद्यमी पंचायत का आयोजन किया गया है। आज विभिन्न बिन्दुओं पर उद्यमियों द्यारा अपनी बातें विस्तार से रखी गयी तथा उन पर गंभीरतापूर्वक चर्चा की गयी। आज के इस बैठक में उद्यमियों द्वारा अच्छे विचार रखे गये हैं। कुछ बातें काफी लाभकारी आयी हैं। उन्होंने कहा कि आप सभी उद्यमियों से चर्चा के दौरान बहुत सारी नई चीजें सामने आती है। उन्होंने कहा कि कृषि और उद्योग मौलिक क्षेत्र है। इसके विकास से बिहार का विकास होगा। बिहार में इनकी बहुत संभावनायें हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले औद्योगिक नीति और नये औद्योगिक नीति के ट्रांजिषन अवधि के दौरान उठने वाले मुद्दों पर सही रूप से जाॅच कर उस पर निर्णय लिया जायेगा। मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक कमिटी का गठन किया जायेगा। इस कमिटी में प्रधान सचिव वित्त, प्रधान सचिव वाणिज्यकर, प्रधान सचिव उद्योग भी सदस्य होंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि उद्योगों के विकास के लिये प्राइवेट इन्डस्ट्रीयल एरिया का विकास अतिमहत्वपूर्ण है। उन्होंने बैठक में आये हुये उद्यमियों को इस क्षेत्र में कार्य करने के लिये कहा। मुख्यमंत्री ने कहा कि माह के पाॅचवें सोमवार को उद्यमी पंचायत के आयोजन की नियमित परंपरा जारी रहेगी। साथ ही इस उद्यमी पंचायत में उठाये गये बिन्दुओं पर कार्रवाई अगले उद्यमी पंचायत के आयोजन से पूर्व करने का निर्देष मुख्यमंत्री द्वारा दिया गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में औद्योगिक निवेष हेतु अनुकूल वातावरण बना है। आधारभूत संरचना जैसे सड़क, पानी, बिजली, स्वास्थ्य एवं षिक्षा सहित सभी आवष्यक क्षेत्रों में तेजी से विकास हुआ है। बिहार में कानून का राज स्थापित किया गया है। बिहार एक बड़ा बाजार है तथा मानव शक्ति से भरपूर है। बिहार में औद्योगिक शीर्ष पर पहुॅचने के लिये सभी क्षमतायें मौजूद है।
उद्यमी पंचायत में उद्यमियों की तरफ से अध्यक्ष बिहार चेम्बर आॅफ काॅमर्स श्री ओ0पी0 साह, अध्यक्ष बिहार उद्योग संघ श्री रामलाल खेतान, पूर्व अध्यक्ष बिहार उद्योग संघ श्री के0पी0 एस0 केसरी, पूर्व उपाध्यक्ष बिहार उद्योग संघ श्री संजय गोयनका, पूर्व उपाध्यक्ष बिहार उद्योग संघ श्री जे0पी0 सिंह, सदस्य बिहार उद्योग संघ श्री राजू गुप्ता, कार्यकारी सदस्य बिहार चेम्बर आॅफ काॅमर्स एण्ड इन्डस्ट्रीज श्री रामाषंकर प्रसाद, पूर्व अध्यक्ष एवं चेयरमैन इन्डस्ट्री सब कमिटी बिहार चेम्बर आॅफ काॅमर्स एण्ड इन्डस्ट्रीज श्री पी0के0 अग्रवाल द्वारा बातें रखी गयी। उद्यमियों के प्रतिनिधियों द्वारा रखी गयी बातों/माॅगों पर सरकार द्वारा विचारोपरान्त कार्रवाई करने का आष्वासन दिया गया। उद्यमी पंचायत के उपरान्त प्रधान सचिव उद्योग डाॅ0 एस0 सिद्धार्थ ने कहा कि उद्यमियों द्वारा सबसिडी, पावर सबसिडी, निजी इन्डस्ट्रीयल एरिया आदि से संबंधित माॅगें रखी गयी है। सभी बातों पर सरकार विचार कर कार्रवाई करेगी।
आयोजित उद्यमी पंचायत में उप मुख्यमंत्री श्री तेजस्वी प्रसाद यादव, वित्त मंत्री श्री अब्दुलबारी सिद्दकी, षिक्षा तथा सूचना एवं प्रावैधिकी मंत्री श्री अषोक चैधरी, ऊर्जा मंत्री श्री बिजेन्द्र प्रसाद यादव, निबंधन, उत्पाद एवं मद्य निषेध मंत्री श्री अब्दुल जलील मस्तान, राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री डाॅ0 मदन मोहन झा, मुख्य सचिव श्री अंजनी कुमार सिंह, विकास आयुक्त श्री षिषिर सिन्हा, प्रधान सचिव जल संसाधन श्री अरूण कुमार सिंह, प्रधान सचिव वित श्री रवि मितल, प्रधान सचिव निबंधन, उत्पाद एवं मद्य निषेध श्री आमिर सुबहानी, प्रधान सचिव स्वास्थ्य श्री आर0के0 महाजन, प्रधान सचिव कृषि श्री सुधीर कुमार, प्रबंध निदेषक बिहार राज्य औद्योगिक क्षेत्र विकास प्राधिकार श्रीमती अंषुली आर्या, प्रधान सचिव राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग श्री विवेक कुमार सिंह, प्रधान सचिव सहकारिता श्री अमृत लाल मीणा, प्रधान सचिव खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण डाॅ0 दीपक प्रसाद, प्रधान सचिव ऊर्जा श्री प्रत्यय अमृत, प्रधान सचिव उद्योग डाॅ0 एस0 सिद्धार्थ, प्रधान सचिव श्रम संसाधन श्री दीपक कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री चंचल कुमार, प्रधान सचिव पर्यटन श्रीमती हरजोत कौर, मुख्यमंत्री के सचिव श्री अतीष चन्द्रा, सचिव सूचना प्रावैधिकी श्री राहुल सिंह, मुख्यमंत्री के सचिव श्री मनीष कुमार वर्मा सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
’’’’’

दो दिन पहले लापता हुए व्यक्ति का मिला शव

मुजफ्फरपुर /कथैया थाना क्षेत्र के बजवाड़ा के रामचंद्र महतो दो दिन पूर्व से था लापता । आज गांव के ही एक निजी विद्यालय के पीछे मिला शव । परिजनों ने चार लोगो पर दर्ज कराया है हत्या का मुकदमा । मौके पर पहुँची पुलिस शव को लिया कब्जे में