एसएससी में हुई व्यपाक धांधली की जांच, उच्चतम न्यायालय, नई दिल्ली के सेवा निवृत्त न्यायाधीश से कराने की मांग को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को किया ईमेल

पटना 15 मार्च आम आदमी पार्टी बिहार के प्रदेश मीडिया प्रभारी बबलू प्रकाश ने, एसएससी में हुई व्यपाक धांधली की जांच, उच्चतम न्यायालय, नई दिल्ली के सेवा निवृत्त न्यायाधीश से कराने की मांग को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को किया ईमेल।
बबलू प्रकाश ने माननीय प्रधानमंत्री से ईमेल के जरिये आग्रह करते हुए कहा, कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) देश मे सबसे ज्यादा ग्रुप “ग” और “घ” में सरकारी नौकरी देने वाली संस्थान हैं।
एसएससी जैसी संस्था भ्रष्टाचारियों के मकड़जाल में फंस जाए तो देश का युवा कहाँ जाए ?
एसएससी की परीक्षार्थी विगत 27 फरवरी से लोदी रोड, दिल्ली में सीजीओ कांप्लेक्स में कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) कार्यालय  के बाहर विरोध प्रदर्शन हो रहा है. और दिल्ली में हो रहे आंदोलन के समर्थन में पटना सहित देश के अलग अलग राज्यो के छात्र सड़क पर हैं। विदित हो 17-21 फरवरी को हुयी जॉइंट  ग्रेजुएट लेवल (सीजीएल) परीक्षा में कथित पेपर लीक एवं अब तक हुए (सीएचएसएल,एमटीएस) जैसे सभी प्रकार के परिक्षाओं को रद्द किया जाए पूरी अनियमितता की जांच सीबीआई से कराने की मांग कर रहे हैं
देश भर के कई ऑनलाइन परीक्षा केंद्र की स्थिति दयनीय है, वेंडरो पर प्रश्नचिन्ह लग गया है जो कि पूरी तरह से संदेहास्पद है। ऑनलाइन परीक्षा केंद्रों पर सुविधाओं का घोर अभाव है, ब्रांडेड कप्यूटर नही है, पाइरेसी सॉफ्टवेयर अपलोड है। परीक्षा केंद्रों के लिए जो मानक एसएससी ने तय किया है कई परीक्षा केंद्र वेंडर उसे पूरा नही करते है। पूरी तरह कुव्यवस्था है कुछ भी अपडेट नही है। देशभर के अलग-अलग राज्यो के छात्र- छात्राओं का आरोप है कि पेपर लीक में एसएससी के अधिकारी और ऑनलाइन परीक्षा संचालन करने वाली एजेंसी भी शामिल है। जिसकी निष्पक्ष जांच सीबीआई के अलावे सर्वोच्च न्यायालय के सेवा निवृत्त न्यायाधीश के निगरानी में समयसीमा के अंदर ज़मीनी स्तर पर
जांच कर न्याय दिलाने की कृपा करें ।
उन्होंने कहा, देश के लाखों करोड़ों बेरोजगार नौजवान आप की और आशाभरी निगाहों से देख रहा हैं, हर हाथ को रोजगार, हर हाथ को काम देने का वादा अभी तक अधूरा हैं, जिसे पूरा कर लाखो करोड़ो युवाओं को बेरोजगारी के दंश से छुटकारा दिलाया जाए* ।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *