जद (यू0) का दलित प्रेम सिर्फ दिखावा :-हम

हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (से0) अनुसूचित जाति जनजाति के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी एल वैश्यन्त्री ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि बिहार में जद (यू0) पार्टी की ओर से दलितों महादलित को अपने पक्ष में रखने के लिए छ: टीम की गठन किया गया है | जिसके माध्यम से बिहार सरकार के द्वारा दलित महा दलितों के लिए जो कार्य सरकार ने किया गया है, उनकी जानकारी तथा कथित रूप में दलित महा दलितों के बीच में पहुंचाने का प्रयास किया किया जाएगा |
वैश्यन्त्री ने जदयू नेताओं द्वारा दलीप महादलित प्रेम को सिर्फ दिखावा बताया है उन्होंने जद (यू0) नेताओं से कुछ सवाल खड़ा करते हुए कहा कि बिहार में नीतीश कुमार की सरकार के द्वारा दलित महादलित को अभी तक 5 बिस्मिल जमीन एवं अवास मुहैया नहीं कराया गया है क्यों ? आज भी लगभग 30% ऐसे लोग हैं | जो भूमिहीन एवं आवास नही है | विहार सरकार इस दिशा में असफल हुई |
वैश्यन्त्री ने कहा कि अनुसूचित जाति जनजाति का छात्रवती घोटाला हुआ है | जो आज तक राशि की वसूली नहीं हुई है |
वैश्यन्त्री ने कहा कि अनुसूचित जाति जनजाति के छात्र राज्य से बाहर के संस्थानों तथा मेडिकल, इंजीनियरिंग में पढ़ाई करते थे | छात्रवृत्ति बिहार सरकार देती थी | नितीश सरकार इन छात्रों का छात्रवृत्ति भी बंद कर दिया | जिससे हजारों दलित महादलित छात्र पढाई से वंचित हो गए | उन बच्चों के जीवन से खिलवाड़ खूब क्या दलित महादलित समाज के अभिभावक भूल सकेंगे | जिस सरकार के कारण उनके बच्चों का भविष्य अंधकार मैं हो गया |वैश्यन्त्री ने कहा कि छात्रवृत्ति के बदले अब शिक्षा लोन की व्यवस्था की गई है| यदि दलित महादलित परिवारों के पास शिक्षा लोन लेने की हैसियत यदि रहता तो वह आज बिना सहारे के पढ लेते |
वैश्यन्त्री ने कहा कि मैं जदयू नेताओं के दलित प्रेम को सिर्फ व्यक्तिगत लाभ के लिए दिखावा मत्र है | अगर दलितों की दर्द को कोई जानता है तो जीतन राम मांझी के अलावा दूसरा है | देश और राज्य में हमारी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री श्री जीतन राम मांझी ही एक मात्र दलित, महा-दलितों के सर्वमान्य नेता हैं |

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

97 − = 94