‘बिटिया, छठी माई के’ का सेकेंड लुक आउट, दिखा पिता-पुत्री का स्नेह पहली बार छठ महापर्व पर बनेगी कोई फ़िल्म


भोजपुरी सिनेमा उद्योग में ऐसी धारणा है कि यहां कमर्शियल व मारधाड़ वाली फ़िल्में ही चलती हैं। ये भी देखा जाता रहा है कि तमाम शीर्ष भोजपुरी अभिनेता व फ़िल्म निर्माता इसी होड़ में लगे भी हैं, लेकिन भोजपुरी स्क्रीन पर इस साल की सबसे बड़ी हिट ग्राफिकल फिल्म नागराज देने वाले अभिनेता यश कुमार की बहुप्रतिक्षित फ़िल्म ‘बिटिया,छठी माई के’ का सेकेंड लुक आज जारी किया गया। इसमें पिता-पुत्री के बीच के स्नेह को देखा जा सकता है।
इस फिल्म’ का सेकंड लुक देख कर साफ जाहिर होता है कि छठ मईया की कृपा से यश कुमार को एक पुत्री की प्राप्ति हुई है और वो उसे बहुत स्नेह करते हैं। यश अपने हर फ़िल्मों में कुछ नया ले कर आते हैं। यही उनकी विशेष पहचान है। अपने हर फ़िल्मों में अलग – अलग गेट अप व अपने हर किरदार पर मेहनत करते हैं। शायद यही कारण है कि यश हर किरदार मे फ़िट और फ़ाईन नज़र आते हैं। फ़िल्म के निर्माता दीपक साह,निर्देशक सुजीत वर्मा हैं।
फ़िल्म के विषय में यश कहते हैं कि फ़िल्म ‘बिटिया,छठी माई के’ अब तक की बेस्ट फ़िल्म साबित होगी। इसे देख दर्शक भोजपुरी सिनेमा में हो रहे बदलाव को महसूस करेंगे। छठ महापर्व उत्तर भारत का महत्वपूर्ण त्योहार हैं। लेकिन आश्चर्य की बात है आस्था के इस महापर्व पर किसी फ़िल्मकार का ध्यान नहीं गया। ‘बिटिया,छठी माई के’ सिनेमा के ज़रिए हम छठ मैया के महिमा को जनजन तक पहुंचायेंगे।
किसी भी व्यक्ति के जीवन में बेटी का क्या महत्व है, वो इस फिल्मन में देख जा सकेगा। लेकिन कुछ लोग जो बेटी को बोझ समझते हैं, उनको जागरूक करना भी ‘बिटिया,छठी माई के’ का मकसद है। इससे बड़ी विडम्बना और क्या हो सकती है कि आमतौर पर छठ मईया का व्रत एक स्त्री करती है और छठ मैया भी एक स्त्री हैं, लेकिन ये व्रत बेटों के लिए की जाती है, जबकि बेटियों के लिए भी होना चाहिए। क्योंकि बेटियाँ नहीं तो हम नहीं।
कुछ दिन पहले इस फ़िल्म का फ़र्स्ट लुक वायरल हुआ था, जिसमें यश रोते बिलखते नज़र आए थे। अब सेकेंड लुक को देख पूरे इंडस्ट्री इसे कौतूहलवश देख रहे हैं, क्योंकि सेकेंड लुक में को देख प्रतीत होता है की ये फ़िल्म पिता-पुत्री की संवेदनशील व मर्मस्पर्शी रिश्तों को दिल की गहराइयों तक छू लेने वाली कहानी पर बनाई गई है। फिल्म की शूटिंग गुजरात के संजान में स्थित वृंदावन वाटिका स्टूडियो में हुई है। कहानी यश कुमार व एस के चौहान की है।
फिल्मत के पीआरओ सर्वेश कश्यप हैं। स्क्रीनप्ले व डायलॉग एस के चौहान ने लिखा है। संगीतकार धनंजय मिश्रा, अविनाश झा घुंघरू हैं। गीतकार प्यारेलाल यादव कविजी, आजाद सिंह व मुन्ना दूबे हैं। छायांकन आर आर प्रिंस। फिल्म के मुख्य कलाकार यश कुमार, प्रीति सिंह, उधारी बाबू, बृजेश त्रिपाठी, अनूप अरोरा, अमित शुक्ला, बेबी अदिति मिश्रा,मनोज मोहानी तथा राधे कुमार हैं। मेहमान भूमिका में प्रसिद्ध अभिनेत्री अंजना सिंह भी नज़र आने वाली हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

− 2 = 1