कांग्रेस के स्थापना दिवस 28 दिसंबर पर “भारत बचाओ संविधान बचाओ” के रूप में मनाने का निर्णय

सदाकत आश्रम में अजय माकन का प्रेस कांफ्रेंस
I
सीएए, एनआरसी और अब एनपीआर के बारे में चर्चा करने के लिए दिल्ली से आया है।
सीएए एक धर्म विशेष को छोडकर सभी से विषमता पैदा करता है।
11 बार संसद के अंदर पीएम ने सीएए के बाद एनआरसी लाने की बात कही है।
इसका सबसे ज्यादा नुकसान गरीब को होगा, जो कागजात नहीं जुटा सकते हैं।
एनपीआर और एनसीआर में मुख्य अंतर निवासी और नागरिकता शब्द है। एनपीआर में निवासी (भारतीय और गैर भारतीय) का रजिस्टर तैयार के तहत कांग्रेस ने 120 करोड़ तैयार कराया।
भाजपा एनपीआर के भेष में एनसीआर लागु करना है।
हमारे एनपीआर फार्म की जगह मोदी सरकार ने नया एनपीआर फार्म निर्गत किया है, उसमें 13(a) & 13 (b) & 14 NRC की तरह का कानून है।
जहां देश को संभालने की बात होनी चाहिए, वहां गृह मंत्री गुरूवार की दिल्ली में टूकडे-टूकड़े गैंग को सबक सिखाने की बात कर रहे हैं।
हमलोगों ने 2010 में एनपीआर फार्म लाया था और आज जो मोदी सरकार फार्म लाई है उसमें कई कालम आपत्तिजनक है।

Author: Anupam Uphar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

+ 59 = 61