केंद्रीय ट्रेड यूनियनों द्वारा आहूत 8 जनवरी के हड़ताल को सफल बनाए :- सिटीजन्स फोरम


पटना 7 जनवरी। 8 जनवरी की अखिल भारतीय हड़ताल को समर्थन तथा जवाहर लाल नेहरु विश्विद्यालय के छात्रों पर बर्बर हमले के खिलाफ आज ‘सिटीजन्स फोरम’, पटना की ओर से प्रतिवाद सभा का आयोजन किया गया। सभा में बड़ी संख्या में पटना के नागरिक, सामाजिके कार्यकर्ता, संस्कृतिकर्मी, साहित्यकार , रंगकर्मी विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता इकट्ठा हुए। सभा में गीत गाये गए, नारा लगाते हुए केंद्र सरकार की नीतियों व उसके द्वारा ढाये जा रहे जुल्मों का विरोध किया गया।
केंद्र सरकार के द्वारा आज श्रम कानूनों को समाप्त किया जा रहा हैं। 44 श्रम कानूनों को समाप्त कर मजदूर विरोधी लेबर कोड का निर्माण किया जा रहा है । वही दूसरी तरफ यह सरकार गुंडों के माध्यम से विश्वविधालयों के छात्रों पर हमला करा रही है। सरकार की मजदूर और छात्र विरोधी नीतियों के खिलाफ आज ‘सिटीजन्स फोरम’ ने बुद्धा स्मृति पार्क के गेट पर नागरिक प्रतिरोध सभा का आयोजन किया गया।
इस प्रतिरोध सभा को सम्बोधित करते हुए निर्माण मजदुर नेता नरेंद्र कुमार ने कहा ” यह सरकार जनता के जनवादी अधिकारों को छीन रही हैं। लेबर कानून में बदलाव कर इसे पूँजीपत्तियों को फायदा दे रही हैं।”
सामाजिक कार्यकर्ता अरविंद सिन्हा ने कहा ” मोदी सरकार ने कारपोरेट हित को ध्यान में रखकर श्रम कानून में बदलाव कर रही हैं जिससे मजदूरों में असुरक्षा का भाव बढा हैं। किसान विरोधी नीतियों के चलते लाखों किसानों ने आत्म हत्या की हैं । आज छात्रों पर हमला हो रहा है। इस कारण खेत खलिहानों, कारखानों, और विश्वविद्यालयों से एक आवाज आई कि इस जनविरोधी सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए कल ग्रामीण भारत बन्द को सफल बनाए।”

अराजपत्रित कर्मचारियों के नेता अंजूल कुमार दास ने कहा ” आठ जनवरी की हड़ताल में मजदूर कन्वेंशन में लिया गया था। एक के बाद एक संस्थाओ पर हमला हो रहा हैं । रेलवे का निजीकरण किया जा रहा हैं। ”

इस प्रतिरोध सभा में अभियान सांस्कृतिक मंच के गौतम गुलाल और रामबली और शिमला मौर्य के द्वारा जनवादी गीत गाया गया। रंगकर्मी मोना झा ने कविता पाठ किया।साथ ही इस प्रतिरोध सभा को रविन्द्र नाथ राय, राजा राम सिंह, सरोज कुमार सुमन, राजाराम सिंह , सौजन्य, रामपरी , अनिल कुमार राय, रवींद्र नाथ राय, प्रोफेसर सतीश कुमार, संजय श्याम, पंकज वर्मा, सुनीता गुप्ता, चक्रवर्ती अशोक प्रियदर्शी, राजा राम सिंह प्रभाकर आदि ने सम्बोधित किया।
सभा का संचालन विश्वजीत कुमार ने किया जबकि अध्यक्षता एम.के पाठक और गणेश शंकर सिंह ने किया।
कार्यक्रम का संचालन विश्वजीत कुमार ने किया। मौके पर कवि अरुण कमल, लेखक अरुण सिंह, पत्रकार निवेदिता झा, कवि राजेश कमल, अनीश अंकुर, के.डी यादव, मोना झा, नन्दकिशोर सिंह, मनोज चन्द्रवंशी, छात्र नेता सुशील कुमार, जयप्रकाश ललन, पार्थ सरकार, अजय कुमार सिन्हा, पुष्पेंद्र शुक्ला, बिट्टू भारद्वाज, आकांक्षा, रामसागर सिंह, मृत्युंजय शर्मा, राधेश्याम, फिलहाल की सम्पादक प्रति सिन्हा, सरफराज, रूपेश, जयप्रकाश, वारुणी पूर्वा, मनोज कुमार, अक्षय कुमार, सूर्यकर जीतेन्द्र, साधना मिश्रा, निकोलाई शर्मा, उमेश प्रसाद, तारकेश्वर ओझा, चन्द्रशेखर ओझा, विजय बहादुर सिंह आदि मौजूद थे।

Author: Anupam Uphar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

21 − 12 =